#79 ये शर्म-ए-हया केसी

घूंघट में बेठा हे वो आज मेरे सामने।
ये शर्म-ए-हया केसी जब वो मेरा ही हें॥
-मयंक

Leave a Reply