#119 दो रोटी की भूख

ये दो रोटी की भूख हमे घर से दूर ले आई हॆ ।
तन को चेन तो हे, पर मन को सुकून नहीं॥
-मयंक

0 thoughts on “#119 दो रोटी की भूख”

Leave a Reply