#158 हम तो बे-मोल बिके

हम तो बे-मोल बिके मोहब्बत के बाज़ार में।
ऒर कुछ लोग थे जो अपनी कीमत लगाते रह गये॥
~मयंक