#159 पत्तथर में भगवान !

सिर्फ दिल से देखने वाली नज़र चाहिये ।
वर्ना पत्तथर के टुकङे में किसी को भगवान न दिखते॥
~मयंकimage

Leave a Reply