#254 Ye nhi pta ki jaana kha h…

Samundar h,
Naav h,
Patvaar h,
Or me huun,
Bs ye nhi pta ki jana kha h….
~mayank

image

0 thoughts on “#254 Ye nhi pta ki jaana kha h…”

  1. ज़िन्दगी पल-पल ढलती है,
    जैसे रेत मुट्ठी से फिसलती है…
    शिकवे कितने भी हो हर पल,
    फिर भी हँसते रहना…क्योंकि ये
    ज़िन्दगी जैसी भी है,
    बस एक ही बार मिलती है।

Leave a Reply