#262 इश्क के बाज़ार में भी "दलाली" चलती॥

हम भी जीत जाते मोहब्बत की जंग।
अगर इश्क के बाज़ार में भी “दलाली”  चलती॥
~मयंक

0 thoughts on “#262 इश्क के बाज़ार में भी "दलाली" चलती॥”

Leave a Reply