#273. प्रभु तेरे मंदिर में ये ढोंग केसा हॆ।

प्रभु तेरे मंदिर में ये ढोंग केसा हॆ।
अंदर जाने की अनुमति उसे जिसकी जेब में पॆंसा हॆ॥
~मयंक

Leave a Reply