#317. मै जब भी कलम पकड़ता हूँ।

मै जब भी कलम पकड़ता हूँ
तो कुछ लिख देता हूँ।
हाँ हे खुद पे गुरूर इतना …
की जब दिल से लिखता हूँ
तो महफ़िल रो देती हे।।
~mayank

image

0 thoughts on “#317. मै जब भी कलम पकड़ता हूँ।”

Leave a Reply