#318. काश उसे नजरें पढनी आती।।

वो सामने बेठा है आज मेरे,
मेरे लब खामोश हैं।
काश उसे नजरें पढनी आती।।
<3 मयंक <3

image

Leave a Reply