#333. उसे ख़्वाबों में आने से क्यों रोकूं मैं।

उसे ख़्वाबों में आने से क्यों रोकूं मैं।
नींद भी तभी आती है जब वो ख़्वाबों में आता है॥
©मयंक

Leave a Reply