#347. अमीर के लिए होते होंगे मंदिर और मश्जिद के मायने अलग-अलग।

अमीर के लिए होते होंगे मंदिर और मश्जिद के मायने अलग-अलग।
गरीब के लिए तो क्या मंदिर की चौखट क्या दरगाह की-
जहाँ रोटी मिल जाए उसके लिए तो वही भगवान का घर है॥
#मयंक

0 thoughts on “#347. अमीर के लिए होते होंगे मंदिर और मश्जिद के मायने अलग-अलग।”

Leave a Reply