#354. पलकें ख़ुशी और गम में भीगी थीं।।

आज उस पिता की पलकें ख़ुशी और गम में भीगी थीं।।
क्यूंकि आज उसकी बेटी की विदाई थी जो घर को कल तक महकाती थी।।
~~~~~~~~~~~~~~
beti vidai
~~~~~~~~~~~~~~
Aaj us Pita( father ) ki Palken Khushi or Gum se Bheegi thi,
Kyunki Aaj uski Beti ki Vidaai thi, Jo Ghar ko Kal tak Mehkaati thi…
                                                                                                                   -mयंक
Related Post-
—————————————————————————————————————
Click Here to Like => Dil Ki Kitaab on f.b 🙂

4 thoughts on “#354. पलकें ख़ुशी और गम में भीगी थीं।।”

Leave a Reply