#356. एक रूह है जिससे मुझे मोहब्बत है…

एक रूह है जिससे मुझे मोहब्बत है…
उसका ना कोई नाम है…
उसकी ना कोई सूरत है….
उसके लिए में मीरा हूँ…
वो मेरे लिए कृष्णा की मूरत है…..
#मयंक
Ek rooh h jisse mujhe mohabbat h….
Uska naa koi naam h …..
Uski naa koi soorat h …..
Uske lie me MEERA huun…
Vo mere lie KRISHNA ki moorat h ….

Leave a Reply