#359. बिन दृढ निश्चय के कोई सपना साकार नहीं होता॥

पानी का कोई आकार नहीं होता।
बिन दृढ निश्चय के कोई सपना साकार नहीं होता॥
माना की करना पड़ता है हार का सामना भी।
पर मेहनत का फल कभी बेकार नहीं होता॥
<3 #मयंक <3

0 thoughts on “#359. बिन दृढ निश्चय के कोई सपना साकार नहीं होता॥”

Leave a Reply