#361. चुराकर हमारे ही नगमे…

चुराकर हमारे ही नगमे,वो दुनिया में मशहूर हो गए।
मोहब्बत हमने की…बेवफा वो निकले…
हम गुनेहगार और वो बेक़सूर हो गए॥
-मयंक

0 thoughts on “#361. चुराकर हमारे ही नगमे…”

Leave a Reply