#362. अपना दर्द बयान करने को।

मुझे रोने की जरूरत नहीं
अपना दर्द बयान करने को।
मेरे अलफ़ाज़ बता देंगे
मेरे दर्द-ए-जुदाई का आलाम॥

~मयंक

Leave a Reply