#368. सब वक़्त का फेर है।

इतना न गुमान किया करो अपने औदे का,

ये सब वक़्त का फेर है।

इन्सान कभी शेर,

तो कभी ढेर है॥
-मयंक

Leave a Reply