#369. मोहब्बत कम हो जाती है वक़्त के पत्थर पर घिसकर।

वो कहते है मोहब्बत कम हो जाती है वक़्त के पत्थर पर घिसकर।
कोई उन्हें जाकर बताये असल सोने की पहचान तभी होती है जब उसे पत्थर पर घिसा जाता है॥
©मयंक

0 thoughts on “#369. मोहब्बत कम हो जाती है वक़्त के पत्थर पर घिसकर।”

Leave a Reply