#384. पहचान बनाना…

पहचान बनाने में जितनी मेहनत लगती है,
उससे ज्यादा नाम को बरकरार रखने में लगती है।
जैसे आग (दीपक) जलाना आसान है,
उसे हवा के झोंको से बचना कठिन॥

<3 मयंक <3

0 thoughts on “#384. पहचान बनाना…”

Leave a Reply