#386. मुस्कान मेरी..

वेसे तो बहुत कुछ कह जाती है जुबान मेरी।
पर आज तू पढ़ सके तो पढ़ मुस्कान मेरी॥
<3 #मयंक <3

0 thoughts on “#386. मुस्कान मेरी..”

Leave a Reply