#393. कपड़ों से मज़हब…

दुनिया के नापाक इरादे देखो …..
हमने नाम नहीं बताया।
तो लोग हमारे कपड़ों से मज़हब ढूँढने लगे॥
<3 #मयंक <3

0 thoughts on “#393. कपड़ों से मज़हब…”

Leave a Reply