#394. चढ़ावा…(chadhawa)

आस्था,श्रद्धा,और पूजा ये तो आज भी मन्न से ही होती है।
हाँ , चढ़ावा अब दिखावे की निशानी बन गया है।।
  

Leave a Reply