#397. आज चाँद नहीं आया मेरे शहर की ओर।

” चाँद आज आया नहीं मेरे शहर की ओर।
लगता है वो आज अपने घर लौट आई है।”
<3 ©मयंक <3

Leave a Reply