#398. Maati ki khushbu (माटी की खुशबू )

ग़ज़ब की है मेरे वतन की माटी की खुशबू।
मैं सात समुन्द्र पार बेठा हूँ, देखो उसकी महक यंहा तक आ रही है॥
<3 ©मयंक <3
….
Ghazab ki h mere vatan ki maati ki khushboo…
Me sath samundar paar betha huun dekho uski mehk yanha tk aa rhi h…
©mayank