#405. हया का पर्दा…

एक हया का पर्दा रखते है हम दोनों दुनिया के सामने।
और लोग समझते है हम दोनों एक दुसरे को जानते नहीं हैं॥
<3 ©मयंक <3

0 thoughts on “#405. हया का पर्दा…”

Leave a Reply