#407. चंद सिक्के…

वो सडक पर लोगों को रौंद कर चला गया।
चंद सिक्के फेंके और निर्दोष हो गया॥

0 thoughts on “#407. चंद सिक्के…”

Leave a Reply