#412. हाथ फेर आए…

आज एक मुर्दा जिंदा हो उठा।

सुना है कल वो उसकी कब्र पर हाथ फेर आए थे॥

<3 ©मयंक <3

0 thoughts on “#412. हाथ फेर आए…”

Leave a Reply