#414. ज़िक्र सिर्फ तेरा…

कागज़ मेरा,
कलम मेरी।
अलफ़ाज़ मेरे,
और जिक्र सिर्फ तेरा॥
<3 ©मयंक  <3

Leave a Reply