#415. आखरी शाम तेरे शहर में….

आज आखरी शाम है तेरे शहर में।
गर है परवाह तुझे, तो कोशिस कर मुझे रोकने की॥
<3 ©मयंक <3

0 thoughts on “#415. आखरी शाम तेरे शहर में….”

Leave a Reply