#418. ढाई अक्षर…

ढाई अक्षर में न समा पाए शब्द मेरे।
बस यही कहना है, की तू जिंदगी भर रहे साथ मेरे ॥
<3 ©मयंक <3

Leave a Reply