#419. हम खटकने से लगे…

जिसकी नजरें कभी हमें देखने को हर-पल तरसती थी।
आज उसी की नज़रों में हम खटकने से लगे हैं॥
©मयंक

Leave a Reply