#425. घर की छत्त…

इस बरसात किसी को मिली राहत गर्मी से ।
और कोई मातम मना रहा था, अपने घर की छत्त गिरने पर॥

<3 ©मयंक <3

Leave a Reply