#427. तू ख़्वाबों में आए….

इंतज़ार करता हूँ तेरा हर रात, की तू ख़्वाबों में आए,
मेरे पास बेठे, मेरे सिर पर हाथ फिराए….
देखता रहूँ तुझे रात भर,
और फिर यूँही सुबह हो जाए….
<3 #मयंक <3
image

0 thoughts on “#427. तू ख़्वाबों में आए….”

Leave a Reply