#429. ख़्वाबों में…

सपनो में जीना छोड़ दिया तबसे,

तूने ख़्वाबों में आना छोड़ दिया जबसे…
<3 ©मयंक <3

Leave a Reply