#432. इकरार…

image

झुकी निगाहें,
और लबों पर मुस्कान,
इसे में इकरार ना समझूं,
तो क्या समझूं॥
<3 ©मयंक <3

0 thoughts on “#432. इकरार…”

Leave a Reply