#444. एक कलंक…

लोहे के बड़े-बड़े स्तम्भ भी गिर जाते है जंक लगने पर,
साख भी मिट्टी में मिल जाती है एक कलंक लगने पर॥
<3 ©मयंक <3
Lohe ke bde-bde stambh bhi gir jaate h jank( rust) lagne par,
Saakh bhi mitti me mil jati h, ek kalank lagne par…

0 thoughts on “#444. एक कलंक…”

Leave a Reply