#449. जब तक लिखते रहे, तब तक बिकते रहे हम…

जब तक लिखते रहे,
तब तक बिकते रहे हम।
किसी के साथ खुशियाँ बांटी,
किसी के बांटे गम॥
जब तक मिलती रही कमियाबी,
सबने  मिलाए मेरे कदम से कदम।
जो घिरे परेशानियों में,
रुकी कलम,
जो कल तक साथ थे,
वो आज भूल गए की कौन है हम॥
<3 ©मयंक <3

image

Jab tak likhte rhe,
Tab tak bikte rahe hum.
Kisi ke saath ke saath khushiyaan banti,
Kisi ke baante gum..
Jab tak milti rhi kamiyabi,
Sabne milae mere kadam se kadam.
Jo ghire pareshaniyon me,
Ruki kalam,
Jo kal tak saath the,
Vo aaj bhool gae ki kaun hai hum.

0 thoughts on “#449. जब तक लिखते रहे, तब तक बिकते रहे हम…”

Leave a Reply