#457. छोटी चादर…

image

किसी ने कहा है की-
जितनी चादर हो,
उतने ही पाँव फेलाने चाहिये।
और मेरा मानना है-
चादर छोटी हो या बड़ी क्या फर्क पड़ता है,
बस आप शंतुष्ट है तो सब ठीक है॥
<3 ©मयंक <3
―――――――――――――
Follow Dil Ki Kitaab on f.b-
       (click here to follow on f.b)

0 thoughts on “#457. छोटी चादर…”

  1. बिलकुल सही. पहले ये ठीक करलेना चाहिए की पैर ढांकना ज्यादा जरूरी है या सर.

    2015-12-07 22:05 GMT-08:00 “Dil Ki Kitaab ( दिल की किताब )” :

    > Mayank Bhatt posted: ” किसी ने कहा है की- जितनी चादर हो, उतने ही पाँव
    > फेलाने चाहिये। और मेरा मानना है- चादर छोटी हो या बड़ी क्या फर्क पड़ता है, बस
    > आप शंतुष्ट है तो सब ठीक है॥ <3 ©मयंक on f.b- (c”

    1. Amul ji me ek udaharan deta hu…
      Ek gareeb jise 2 waqt ki roti bhi dhang se naseeb nhi h….
      Tan pr kapda to door ki baat h, uske sir prhatt bhi nhi h, pr vo shantusht h jesa bhi mil rha h vo khush h…
      Ek agla udahran,
      Ek ameer aadmi h, jiska ghr 2500 mtr sq. Ka h, 4-5 car h, makhmal ka bistar h sone ke lie, pr vo shantust nhi h itna sb kuch paas hone ke karan….
      Ab aap meri baat smjh gae honge CHOTI CHADAR wali… 🙂

Leave a Reply