व्यंग के तौर पर पढ़े-

” सरकारी कर्मचारी को आप सिर्फ तब-तक गाली दे सकते है,
जब-तक आप खुद सरकारी कर्मचारी नहीं बन जाते है”
<3 ©मयंक <3

0 thoughts on “व्यंग के तौर पर पढ़े-”

Leave a Reply