#482. सकारात्मक सोच….

Maana ki manzil door h…
Par use paana namumkin to nhi…

image

माना की मंजिल दूर है।
पर उसे पाना, नामुमकिन तो नहीं॥
<3 mयंक <3
…………….******-…………………….
click here <= to like Dil Ki Kitaab on fb 🙂

0 thoughts on “#482. सकारात्मक सोच….”

Leave a Reply