#484 गुनाह अपने और परायों के……

Apne Gunaahon ko chupaane ka,
Aur dusron ki Galti dikhaane ka Hunar yanha har koi rakhta hai.

image

अपने गुनाहों को छुपाने का,
और दुसरे की गलती दिखाने का हूनर
     यँहा हर कोई रखता है॥
<3 mयंक <3
———————————————–
click here <= to Like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂

0 thoughts on “#484 गुनाह अपने और परायों के……”

Leave a Reply