#487. माँ से जुदाई…

Mujhse Maa se Do Pal ki Judaai shi nhi jaati hai,
Pta nhi Betiya ye hunar kanha se laati hai…
———————————–
मुझसे मां से दो पल की जुदाई सही नहीं जाती है,
पता नहीं बेटीयां ये हुनर कहां से लाती हॆं..
<3 mयंक <3

0 thoughts on “#487. माँ से जुदाई…”

Leave a Reply