#495. भटका हुआ मुसाफिर…

चौराहे पर खड़ा हूँ,
राह इधर भी है…
राह उधर भी है…
बस ये नही पता की,
मंज़िल कंहा है॥

image

Chauraahe par Khada huun,
Raah idhar bhi hai…
Raah udhar bhi hai,
Bas ye nhi pta ki..
Manzil kanha hai…
<3 mयंक <3
–-–—*—————————-*—–
click here <= to like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂

0 thoughts on “#495. भटका हुआ मुसाफिर…”

Leave a Reply