#496. मेरी काबिलियत का अंदाज़ा….

Kagaj ke Tukde (Degkhone Panree) se Insaan ki Kabiliyat ka Andaza mat lagaya kariye..

Kyunki Panchi ki Udaan kitni Unchi hogi, ye uske Pankhon ke Aakar se nhi uske Haulse par Nirbhar karta hai…

image

किसी कागज़ के टुकड़े (Degree) से इंसान की काबिलियत का अंदाज़ा मत लगाया करिये।
क्यूंकि पंछी की उड़ान कितनी ऊंची होगी ये उसके पंखों के आकर से नहीं उसके हौसले पर निर्भर करता है॥
<3 mयंक <3


click here <= to like Dil Ki kitaab on f.b 🙂

0 thoughts on “#496. मेरी काबिलियत का अंदाज़ा….”

Leave a Reply