#505. झूठा इलज़ाम….

Dhanush hone se kuch nhi hota Teer h tb hunkaar bharo….
Afwaahen tm naa udaao Tathya h tb mujhpr waar kro..

 

धनुष होने से कुछ नहीं होता, तीर है तब हुंकार भरो.।

अफ्वायें तुम न उड़ाओ, तथ्य है तब मुझपर वार करो.।।

<3 mayank <3


click here to like Dil Ki Kitaab on fb 🙂

0 thoughts on “#505. झूठा इलज़ाम….”

Leave a Reply