#514. अंत निकट आने पर… (Towards the end…)

​Deepak ki Lao aur Insaan ke Patan ki sirf ek Kahaani hai,

Ant nikat aane par Guroor ki Param Chawi dikhani hai.

दीपक की लौ और इंसान के पतन की सिर्फ एक कहानी है।

अंत निकट आने पर गुरूर की परम छवी दिखानी है॥ #मयंक

0 thoughts on “#514. अंत निकट आने पर… (Towards the end…)”

Leave a Reply