#526. तेरी ममता ( Teri Mamta )

 

तेरी ममता के आगे हर दर्द छोटा सा लगता है।

तू ही समझती है मुझे, बाकी तो पूरा ज़माना मुझसे रूठा सा लगता है॥

Teri mamta ke aage hr dard chota sa lgta h,,,
Tu hi smjhti h mjhe baki to poora zamana mjhe rootha sa lgta h….

<3 mayank <3

     click here to like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂

**********************************************************************

माँ पर कुछ ओर lines-

  1. माँ से जुदाई…
  2. नवरात्रों से एक दिन पहले…
  3. वो माँ थी…
  4. भ्रूण हत्या।
  5. भ्रूण हत्या की एक कहानी, मेरी जुबानी
  6. “माँ की ममता और गरीबी का आलम “

————————————————————————–

 

0 thoughts on “#526. तेरी ममता ( Teri Mamta )”

Leave a Reply