माँ से दो पल की जुदाई-

घर से लौटकर जब वापस जॉब के लिए शहर छोड़ना पड़ता है, तो बस मुझे अपनी कहि यही बात आती है।


click here to read full story.

0 thoughts on “माँ से दो पल की जुदाई-”

Leave a Reply