#528 नमक का अकाल..

इतना नमक इकट्ठा कर लोग कँहा जाएंगे।
लगता है कल से साबुन की जगह नमक लगाएंगे।।
मैल तो नही निकलेगा,
पर चमड़ी जरूर उधड़ जाएगी।
तब जाकर शायद इन्हें कुछ अकल आएगी।।
ये अफवाह के बादल हैं इन्हें कौन समझाए।
बादल छंटने पर क्या पता इन्हें कुछ अक्ल आए।।

देश के कुछ हिस्सों में ये अफवाह क्या उडी की नमक खत्म हो गया है, लोगों ने इतना खरीद लिया की सच में किसी दूकान पर आज नमक नहीं मिल रहा है।।

ना जाने लोग अफवाहों पर बिन सोचे यकीन कैसे कर लेते है, 1 या 2 पैकेट खरीदकर रख लेना समझ में आता है, पर 20 पैकेट खरीदने का क्या तुक बनता है।

चलो मान लेते है कि अकाल पड़ गया है नमक का, तब भी आप एक दिन में कितना नमक इस्तेमाल करते है, 1 किलो…??

नहीं न।।

हम 50 ग्राम नमक भी एक दिन में इस्तेमाल नही करते है।

तब भी नमक के 20 पैकेट लेकर रख लिए इतना भय हो गया कि 25₹ के पैकिट को आज 400₹ में खरीद रहे हो।

चीज़ें जरूरत के हिसाब से खरीदी जाएं तभी सही रहता है, और दूसरे की सुनी-सुनाई बात पर यकीन करने से पहले सच को जानना सीखो।।

-mयंक

10 thoughts on “#528 नमक का अकाल..”

Leave a Reply