#529. आँसू की कीमत (Ansoo ki Keemat)

​मेरे आँसू की कीमत आज बढ़ गई है।

नमक के भाव आसमान जो छूनेे लगे हैं।।

Mere Aansu ki Keemat aaj Badh gai hai,

Namak ke Bhaaw Asmaan jo Chune lage hain.

©mयंक

——————————–

Click here to read another satire on salt blackmarketing- नमक का अकाल

____________________________

Click here <= to like Dil Ki Kitaab on f.b

2 thoughts on “#529. आँसू की कीमत (Ansoo ki Keemat)”

Leave a Reply